<data:blog.pageName/> | <data:blog.title/> <data:blog.pageTitle/>

CO Full From – C/O Full Form क्या होती है – सी/ओ क्या है?

CO Full From | सी/ओ | c/o Full From | C/O

What is C/O and Iski Ki Full Form Kya Hoti Hai and when is C/O used and Care of” Meaning in Hindi

दोस्तों आज हम आपको c/o के बारे में बता रहे हैं कि C/O Full Form क्या होती है और इसका क्या मतलब होता है ये सारी जानकारी हम आपको देंगे साथ ही हम आपको ये भी बताएंगे कि इसका इस्तेमाल कहां करें क्या होता है मतलब हिंदी में ये सब बातें हम आपको बता रहे हैं तो इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़ें।

सी/ओ Meaning In Hindi

C/o का हिंदी में मतलब होता है थ्रू या थ्रू या इन केयर में। अधिकतर इसका उपयोग पत्राचार या ऑनलाइन खरीदारी में किया जाता है।

सी/ओ फुल फॉर्म

℅ का फुल फॉर्म केयर ऑफ इंग्लिश में होता है इसका मतलब हमने आपको हिंदी में बताया है इसका मतलब इनके द्वारा या इनके द्वारा

सी/ओ क्या है?

C/O का फुल फॉर्म केयर होता है और इसका इस्तेमाल कई जगहों पर अलग-अलग तरह से किया जाता है, ज्यादातर लोग इसका इस्तेमाल एड्रेस लिखते समय करते हैं, पोस्ट ऑफिस या कूरियर सर्विस से जब कोई लेटर आता है तो आपने अक्सर देखा होगा कि केयर ऑफ पते पर लिखवा दिया जाता है तो केयर ऑफ लिखकर पता आसानी से मिल जाता है क्योंकि कई बार ऐसा होता है |

कि मोहल्ले के ज्यादातर लोग हमें नहीं जानते इसलिए हम अपने पड़ोसी या मकान मालिक के जरिए पते में केयर ऑफ लिखवाते हैं। जिससे पता लगाने में आसानी होती है। इससे डाकिया या कूरियर बॉय को पता चल जाता है कि यह किसे दिया जाना है और किसके माध्यम से दिया जाना है।

E Shram Card Registration 2023: ई श्रमिक कार्ड कैसे बनाएं?

सी/ओ का उपयोग कब किया जाता है?

पत्र या पार्सल भेजते समय

जैसा कि अक्सर आपने देखा होगा कि बहुत से छात्र या कामकाजी लोग अपना शहर छोड़कर दूसरे शहर में पढ़ने या काम करने चले जाते हैं, तो उनके पास अपना कोई घर नहीं होता है, फिर उन्हें किराए के मकान या हॉस्टल में रहना पड़ता है और जब उनके पास नहीं जब कोई पार्सल या लेटर आता है तो उस पर सबसे पहले लेटर पाने वाले का नाम लिखा जाता है, उसके बाद केयर ऑफ में मकान मालिक का नाम लिखा जाता है, ताकि पोस्टमैन या कूरियर बॉय को पता ढूढ़ने में आसानी हो यह पत्र या पार्सल किसका है।

जो लोग केयर ऑफ का इस्तेमाल नहीं करते उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है इसलिए केयर ऑफ का इस्तेमाल करना होता है। या फिर मकान मालिक का नाम केयर में लिखा होता है, जिससे पत्र या पार्सल तक पहुंचने में ज्यादा परेशानी नहीं होती और पता आसानी से मिल जाता है।

ऑनलाइन खरीदारी करते समय

जब भी हम ऑनलाइन शॉपिंग करते हैं तो हमें ऑनलाइन शॉपिंग करते समय अपना पता लिखना होता है, तभी हमारा पार्सल हमारे घर पहुंचता है और कई बार ऐसा होता है कि शहर या मोहल्ले में हमें बहुत कम लोग जानते हैं, इसलिए हमें कोई फर्क नहीं पड़ता। ऑफ में हम ऐसे व्यक्ति का नाम लिखते हैं जो मोहल्ले में प्रसिद्ध हो, वह हमारा जमींदार होता है, तो इसके लिए पहले हम अपना नाम लिखते हैं, फिर सावधानी से उस व्यक्ति का नाम लिखते हैं, यह व्यक्ति परिचित होता है |

अधिकांश लोग, इसलिए यह हमारे पार्सल में आसानी से प्राप्त हो जाता है। तो दोस्तों आपने देखा की Care Off लिखने के बहुत से फायदे हैं इससे आपका पार्सल या लेटर सही मालिक तक पहुँच जाता है और आपको ज्यादा परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता है कई बार ऐसा होता है की Care Off न लिखने के कारण पार्सल लौटा दिया जाता है। ऐसा हो जाता है और सही पता नहीं मिल पाता है, अगर आप किसी नई जगह पर हैं तो आपको अपने पते में केयर ऑफ जरूर लिखना चाहिए।

Google Ka Avishkar Kab Aur Kisne Kiya – गूगल का अविष्कार किसने किया

Leave a Comment